शिमला के शोघी में हादसा, 6 लोग घायल       अंतरराष्ट्रीय प्राकृतिक आपदा न्यूनीकरण दिवस पर कार्यकर्म आयोजित कर लोगो को किया गया जागरूक         12वीं की छात्रा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, समस्त परिवारजन सदमे में       आज है शरद पूर्णिमा; क्या है शरद पूर्णिमा का महत्व ? जानिए !       मंडी से चंडीगढ़ जा रही एचआरटीसी बस में सवार युवक से चरस बरामद       रविवार का पंचांग: 13 अक्टूबर 2019; जानिए आज का शुभ मुहूर्त       आज का राशिफ़ल: 13 अक्टूबर 2019; जानिए कैसा रहेगा आपका दिन       ओच्छघाट सोलन के गड़ोग गांव में की जा रही थी भांग की खेती, एक किसान गिरफ्तार       लाखों की नकदी व जेवर चोरी मामले में आरोपी गिरफ्तार       इंजीनियरिंग के एक छात्र की चिट्टे की ओवरडोज से मौत      

हिमाचल

दिवाली के बाद फिर 40000 के पार होंगे सोने के दाम, सोना खरीदने से पहले रखे इन बातों का ध्यान, होगा फायदा-

October 08, 2019 07:43 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर

सोने के गहनों की खरीदारी करते हुए आप इतने उत्साहित होते हैं कि कई बार अपने उत्साह में ये भूल जाते हैं कि आपके साथ धोखा भी हो जाता है। खासतौर से त्यौहारी सीजन में कुछ ज्वेलर्स बहुत धांधली भी करते हैं। भीड़भाड़ और समय कम होने के कारण जिन छोटी-छोटी बातों पर आप ध्यान नहीं दे पाते, वहीं ज्वेलर्स आपसे ठगी कर देते हैं। आपको कितने कैरेट का सोना लेना है, इसके बारे में पहले ही निर्णय ले लें। ध्यान रहे कि कैरट के साथ सोने के गहनों की गुणवत्ता और कीमत में अंतर आता है। सोना खरीदने से पहले किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए पढ़िए हमारा यह लेख विस्तार से:-

प्रतीकात्मक तस्वीर : Gold Jewellery


शिमला: (हिमदर्शन न्यूज़);  अगर आप शादी या त्योहार के लिए सोना खरीदने का प्लान कर रहे हैं तो यह खरीदारी के लिए अच्छा समय है। अगर एक्सपर्ट की माने तो दिवाली तक 10 ग्राम सोने का भाव 40, 000 रुपए के पार जा सकते हैं। घरेलू मांग में कमी की वजह से सोने के दाम में उतार-चढ़ाव का माहौल चल रहा है। ऐसे में एक्सपर्ट का मानना है कि दिवाली तक गोल्ड में अनिश्चितता का माहौल रहेगा। ऐसे में गोल्ड में खरीदारी का यह वक्त सही है।

प्रतीकात्मक तस्वीर : Gold Jewellery

बढ़ नहीं रही गोल्ड की डिमांड

ज्वैलर्स का कहना है कि इस वक्त अंतरराष्ट्रीय बाजारों के साथ घरेलू मार्केट में गोल्ड की डिमांड बढ़ नहीं रही है। मार्केट में गोल्ड की खरीदारी कम हो रही है। लोग अभी गोल्ड में निवेश करने में ज्यादा रुचि नहीं दिखा रहे हैं। इस कारण गोल्ड में उतार-चढ़ाव का दौर चल रहा है। मगर गोल्ड की डिमांड दिवाली के 11 दिनों के बाद बढ़ सकती है। तब शादी-ब्याज का सीजन आरंभ हो जाएगा।

प्रतीकात्मक तस्वीर : Gold Jewellery

दिवाली के बाद बढ़ेंगे दाम

उनका कहना है कि जब घरेलू मार्केट में डिमांड बढ़ेगी तो फिर गोल्ड की कीमत में तेजी को रोकना मुश्किल हो जाएगा। ऐसे में जो लोग गोल्ड की खरीदारी करना चाहते हैं, वो मार्केट पर नजर रखें। जैसे ही गोल्ड नीचे आए तो तुरंत खरीदारी करनी चाहिए।

प्रतीकात्मक तस्वीर : Gold Jewellery

सोना खरीदने से पहले रखे इन बातों का विशेष ध्यान, होगा फायदा-

सोने के गहने खरीदने में जल्दबाजी दिखाना आपकी जेब पर भारी पड़ सकता है। अगर आप सोना खरीदने जा रहे हैं तो इन बातों का ध्यान रखना आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

प्रतीकात्मक तस्वीर : Gold Jewellery

1-अपने शहर में भाव जरूर पता करें

अगर आप सोने का सिक्का या गहने खरीदने की सोच रहे हैं तो सबसे पहले अपने शहर में सोने का भाव पता करें। हर शहर में सोने के दाम अलग-अलग हो सकते हैं। दरअसल, स्थानीय ज्वेलर्स एसोसिएशन विदेशी बाजार में भाव के हिसाब से सोने के भाव तय करती हैं। उदाहरण के तौर पर अगर आप दिल्ली में गहने खरीद रहे हैं तो दिल्ली सर्ऱाफा एसोसिएशन के तरफ से जारी सोने का भाव पता कर लें। इसके अलावा कम से कम दो ज्वेलर्स से सोने का भाव जरूर पता कर लें।

2-कैरेट जांच लें

सोने की शुद्धता मापने का सबसे अहम पैमाना कैरेट होता है। कैरेट जितना ज्यादा होगा, सोना उतना ही खरा होगा। ज्यादा कैरेट मतलब ज्यादा दाम। इसी तरह से कैरेट जितना कम होगा, सोना उतना ही सस्ता होगा। कई बार ज्वेलर्स सोने के गहने खरीदते वक्त ग्राहकों से 24 कैरेट के भाव वसूलते हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर : Gold Jewellery

ध्यान रखें कि सोने की कोई भी ज्वेलरी 24 कैरेट में नहीं बन सकती है, क्योंकि 24 कैरेट सोना काफी ठोस होता है। आमतौर पर गोल्ड ज्वेलरी 22 कैरेट की बनती है। इस गुणवत्ता वाले सोना की ज्वेलरी में 91.66 फीसदी सोना होता है। कई बार सोने की ज्वेलरी को मजबूत बनाने के लिए इसमें जिंक, कॉपर और चांदी को मिलाया जाता है।

3-हॉलमार्क ज्वेलरी ही खरीदें

हॉलमार्किंग का निर्धारण ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (बीआईएस) करती है। यह संस्था उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराए जा रहे गुणवत्ता के स्तर की जांच करती है। यदि सोने के गहनों पर हॉलमार्क है तो इसका मतलब है कि उसकी शुद्धता प्रमाणित है। लेकिन कई ज्वैलर्स बिना जांच प्रकिया पूरी किए ही हॉलमार्क लगाते हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर : Gold Jewellery

ऐसे में यह देखना जरूरी है कि हॉलमार्क ओरिजनल है या नहीं ? असली हॉलमार्क पर भारतीय मानक ब्यूरो का तिकोना निशान होता है। उस पर हॉलमार्किंग सेंटर के लोगो के साथ सोने की शुद्धता भी लिखी होती है। उसी में ज्वैलरी निर्माण का वर्ष और उत्पादक का लोगो भी होता है। गहने खरीदते वक्त आपको शुद्धता सर्टिफिकेट लेना न नहीं भूलना चाहिए। इस सर्टिफिकेट में गोल्ड के कैरेट जरूर चेक कर लें। साथ ही गोल्ड ज्वैलरी में लगे नगीने (स्टोन) के लिए भी एक अलग सर्टिफिकेट जरूर लें।  इससे आपके ठगे जाने की गुंजाइश कम हो जाएगी। कई बार जल्दबाजी में सोना खरीदते वक्त ग्राहक इन बातों पर ध्यान नहीं देते हैं, जिससे उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है।

प्रतीकात्मक तस्वीर : Gold Jewellery

4-नगीना जड़ित ज्वेलरी से बचें

जब आप ज्वेलरी खरीदने जा रहे हों तो नगीने (स्टोन) लगी हुई ज्वेलरी से बचें। कई ज्वेलर्स गहने तौलते वक्त नगीने के वजन को भी इसमें शामिल कर लेते हैं और पूरे आइटम का भाव सोने के भाव के आधार पर तय करते है। मात्र दिखावे के लिए 2 से 4 ग्राम तक मोती या स्टोन लेस्स कर देतें है ताकि उन पर ग्राहक का भरोसा बना रहे जबकि वास्तविकता कुछ और ही होती है जिसका पता आपको रिसेल या गोल्ड लोन लेते वक्त ही लगता है।

5-मेकिंग चार्ज में मोलभाव करें

हर ज्वेलरी पर मेकिंग चार्ज अलग-अलग होता है। इसकी सबसे खास वजह है कि हर गहनों की बनावट और कटिंग और फिनिशिंग अलग-अलग होती है। अगर यह मानव निर्मित या मशीन निर्मित होते हैं। मशीन निर्मित ज्वेलरी मानव निर्मित ज्वेलरी से सस्ती पड़ती है।

प्रतीकात्मक तस्वीर : Gold Jewellery

मेकिंग चार्ज दो तरह से तय होते हैं। पहला, सोने की कीमत पर इसे फीसदी के रूप में लगाया जाता है। प्रति ग्राम सोने के हिसाब से भी फ्लैट मेकिंग चार्ज लगता है। कई ज्वेलर्स ग्राहकों के मोलभाव करने पर मेकिंग चार्ज कम कर देते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इसका कोई खास मानक अभी तक इंडस्ट्री में तय नहीं किया गया है।

6-गहनों की कीमत को विभाजित करके देखें

सोने के गहनों की कीमत को विभाजित करके देखें. यानी कि गहने की जो भी कीमत है, उसमें मेकिंग चार्ज कितना और जीएसटी कितना है आदि।  सोने का गहना खरीदने से पहले गहने का वजन जरूर देखें।

7-हॉलमार्क देखकर सोना खरीदें -

सोना खरीदते वक्त उसकी क्वॉलिटी पर जरूर गौर करें। सबसे अच्छा है कि हॉलमार्क देखकर सोना खरीदें। हॉलमार्क सरकारी गारंटी है। हॉलमार्क का निर्धारण भारत की एकमात्र एजेंसी ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (बीआईएस) करती है। इसका एक फायदा यह भी है कि जब आप इसे बेचने जाएंगे या रिप्लेस करने जाएंगे तो इसमें से डिप्रेसिएशन कॉस्ट नहीं काटी जाएगी।

8-चौबीस कैरेट गोल्ड बने गहने नही होते -

अगर कोई ज्वेलर आपको 24 कैरेट गोल्ड के गहने देने का दावा कर रहा है तो समझ लें कि वो फर्जी है। क्योंकि 24 कैरट सबसे शुद्ध सोना होता है और इसमें गहने नहीं बनते। क्योंकि यदि इसका गहना बना तो वह बहुत जल्दी टूट जाएगा। क्‍योंकि वो बेहद मुलायम होता है।

9-हॉलमार्क का नंबर देखकर जाने सोने की शुद्धता

आमतौर पर आभूषणों के लिए 22 कैरेट सोने का इस्तेमाल किया जाता है, जिसमें 91.66 फीसदी सोना होता है। हॉलमार्क पर पांच अंक होते हैं।  सभी कैरेट का हॉलमार्क अलग होता। कैरेट के अनुसार हॉलमार्क का नंबर : 22 कैरेट पर 916,   21 कैरेट पर 875 और 18 पर 750 लिखा होता है। इससे शुद्धता में शक नहीं रहता।

कैरेट गोल्ड का मतलब होता हे 1/24 पर्सेंट गोल्ड । यदि आपके आभूषण 22 कैरेट के हैं तो 22 को 24 से भाग देकर उसे 100 से गुणा करें। कीमत इसी पर तय होती है।

मान लीजिए आज शिमला में सोने की दर, 24 कराट के लिए ₹  39946.5/ 10 ग्राम और 22 कराट के लिए ₹ 37350/10 ग्राम है।

(22/24)x100= 91.66 यानी आपके आभूषण में इस्‍तेमाल सोने की शुद्धता 91.66 फीसदी है। मसलन 24 कैरेट सोने का रेट टीवी पर ₹  39946.5/ 10 ग्राम है और बाजार में इसे खरीदने जाते हैं तो 22 कैरेट सोने का दाम (₹  39946.5/24)x22=₹ 37350/10 ग्राम  रुपए होगा।

जबकि अधिकांश ज्वैलर आपको 22 कैरेट सोना ₹  39946.5 में ही देंगे। यानी आप 22 कैरेट सोना 24 कैरेट सोने के दाम पर खरीद रहे हैं। ऐसे ही 18 कैरेट गोल्ड की कीमत भी तय होगी। जबकि ये ही सोना ऑफर के साथ देकर ज्वैलर आपको छलते हैं। यदि आप  कैल्कुलेशन के हिसाब से सोना खरीदेंगे तो बाजार में कभी धोखा नहीं खाएंगे।

 

Have something to say? Post your comment

हिमाचल में और

शिमला के शोघी में हादसा, 6 लोग घायल

अंतरराष्ट्रीय प्राकृतिक आपदा न्यूनीकरण दिवस पर कार्यकर्म आयोजित कर लोगो को किया गया जागरूक  

12वीं की छात्रा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, समस्त परिवारजन सदमे में

मंडी से चंडीगढ़ जा रही एचआरटीसी बस में सवार युवक से चरस बरामद

ओच्छघाट सोलन के गड़ोग गांव में की जा रही थी भांग की खेती, एक किसान गिरफ्तार

लाखों की नकदी व जेवर चोरी मामले में आरोपी गिरफ्तार

इंजीनियरिंग के एक छात्र की चिट्टे की ओवरडोज से मौत

मुख्यमंत्री ने इन 3 विभागों को लगाई फटकार, टारगेट पूरा करने में नाकाम रहे ये विभाग

चरस तस्करों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई : अटैच की चरस तस्करों की संपत्ति

राज्य सहकारी बैंक में हुई भर्तियों की जांच पूरी करने में विजिलेंस के हाथ खड़े