शिमला के शोघी में हादसा, 6 लोग घायल       अंतरराष्ट्रीय प्राकृतिक आपदा न्यूनीकरण दिवस पर कार्यकर्म आयोजित कर लोगो को किया गया जागरूक         12वीं की छात्रा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, समस्त परिवारजन सदमे में       आज है शरद पूर्णिमा; क्या है शरद पूर्णिमा का महत्व ? जानिए !       मंडी से चंडीगढ़ जा रही एचआरटीसी बस में सवार युवक से चरस बरामद       रविवार का पंचांग: 13 अक्टूबर 2019; जानिए आज का शुभ मुहूर्त       आज का राशिफ़ल: 13 अक्टूबर 2019; जानिए कैसा रहेगा आपका दिन       ओच्छघाट सोलन के गड़ोग गांव में की जा रही थी भांग की खेती, एक किसान गिरफ्तार       लाखों की नकदी व जेवर चोरी मामले में आरोपी गिरफ्तार       इंजीनियरिंग के एक छात्र की चिट्टे की ओवरडोज से मौत      

हिमाचल

दफ्तरों में गाड़ियां लगवाने के नाम पर करोड़ों की ठगी, तीन गिरफ्तार

October 08, 2019 02:08 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर

शिमला: हिमाचल प्रदेश में  निजी कंपनियों में महंगी गाड़ियां लगवाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ हुआ हैै। इस मामले मेंं स्टेट विजिलेंस ब्यूरो ने 3 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। यह गिरोह लोन पर गाड़ियां खरीदवाता था और बाद में गाड़ी और दस्तावेज लेकर फरार हो जाता था।प्रदेश भर में साठ से ज्यादा लोगों को ठगकर यह गिरोह छह करोड़ से ज्यादा की चपत लगा चुका है। विजिलेंस ने शिमला और सोलन में मामले दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार तीन दिन पहले विजिलेंस ब्यूरो ने शिमला और सोलन विजिलेंस थानोें में लोगों की शिकायत पर धोखाधड़ी के कई मामले दर्ज किए। इन मामलों की जांच के दौरान अधिकारियों को पता चला कि ठगों का यह गिरोह गरीब व सामान्य परिवार के लोगों को अपना निशाना बनाता था। लोगों को फाइनेंस कंपनियों से लोन पर गाड़ी दिलाने और निजी कंपनी में प्रति माह पैसे दिलाने के नाम पर झांसा देकर राजी करता था।

गिरोह के सदस्य गाड़ी खरीदने के दौरान सारे दस्तावेजों पर लोगों से साइन कराते और फिर गाड़ी खरीदने के बाद यह कहकर अपने पास रख लेते कि गाड़ी दफ्तर में लगने तक उनके पास रहेगी। इस दौरान वह लोगों का भरोसा जीतने के लिए शुरुआती एक या दो किस्त के पैसे भी दे देते थे। लेकिन इसके बाद वह गाड़ियां लेकर फरार हो जाते। निजी कंपनियों में महंगी गाड़ियां लगवाने के नाम पर ठगों का निशाना बनने और फाइनेंस कंपनियों की धमकियां झेल रहे पीड़ितों ने स्थानीय पुलिस थानों में मदद की गुहार लगाई लेकिन पुलिस ने लेनदेन का मामला बताकर उन्हें बेरंग लौटा दिया। इसके बाद पीड़ितों ने सीएम कार्यालय से संपर्क किया।

सीएम कार्यालय के निर्देश के बाद विजिलेंस हरकत में आई और अब इस बड़े खेल का पर्दाफाश हुआ है। उधर, मामला दर्ज होने के बाद आरोपियों की तलाश के लिए डीएसपी विजिलेंस सोलन संतोष कुमार के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई। टीम ने मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जिनमें कालका निवासी सुशील कुमार, पटियाला निवासी सुखवीर और मोहाली का हरदीप ब्रार शामिल है।इनके पास से ठगी के शिकार लोगों के नाम पर खरीदी गई एक फॉक्सवोगन कंपनी की एमियो कार, एक ब्रीजा और एक बलीनो कार बरामद हुई है। एडीजी विजिलेंस अनुराग गर्ग ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी फर्जी नाम से ठगी का गोरखधंधा चला रहे थे।

सुखबीर का असली नाम विमल कालरा है वह धोखधड़ी के कई मामलों में हिमाचल समेत कई राज्यों की पुलिस के निशाने पर था और बचने के लिए सुखबीर नाम से लोगों से मिलता था। वहीं, एक अन्य आरोपी सुशील का भी असली नाम अमित बताया जा रहा है। एडीजी विजिलेंस ने कह कि मामले की जांच जारी है और कई अन्य लोगों की भी गिरफ्तारी हो सकती है। अब तक की जांच के अनुसार आरोपी ऐसे लोगों को अपना निशाना बनाते थे जो बेहद गरीब या कम पढ़े लिखे हो। इसके बाद इनके नाम पर फार्च्युनर, स्कॉर्पियो, सफारी जैसी लग्जरी गाड़ियों की खरीद करते थे। खास बात यह है कि यह गाड़ियां उनके नाम पर खरीदी जाती थी जिनमें से कई के सर पर अपनी छत तक नहीं थी।

न्यूज़ सोर्स : अमर उजाला /सोशल मीडिया

 

Have something to say? Post your comment

हिमाचल में और

शिमला के शोघी में हादसा, 6 लोग घायल

अंतरराष्ट्रीय प्राकृतिक आपदा न्यूनीकरण दिवस पर कार्यकर्म आयोजित कर लोगो को किया गया जागरूक  

12वीं की छात्रा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, समस्त परिवारजन सदमे में

मंडी से चंडीगढ़ जा रही एचआरटीसी बस में सवार युवक से चरस बरामद

ओच्छघाट सोलन के गड़ोग गांव में की जा रही थी भांग की खेती, एक किसान गिरफ्तार

लाखों की नकदी व जेवर चोरी मामले में आरोपी गिरफ्तार

इंजीनियरिंग के एक छात्र की चिट्टे की ओवरडोज से मौत

मुख्यमंत्री ने इन 3 विभागों को लगाई फटकार, टारगेट पूरा करने में नाकाम रहे ये विभाग

चरस तस्करों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई : अटैच की चरस तस्करों की संपत्ति

राज्य सहकारी बैंक में हुई भर्तियों की जांच पूरी करने में विजिलेंस के हाथ खड़े