हिंदी ENGLISH E-Paper Download App Contact us Thursday | February 20, 2020
चीन में फैले कोरोना वायरस के बीच पांच चीनी पहुंचे शिमला, पांचों की की गई स्वास्थ्य जांच, CMO में कहा शहर वासियों को नहीं घबराने की जरूरत।       स्वास्थ्य देखभाल सुविधा के लिए वरदान बनी हिमकेयर योजना       कैबिनेट में शराब के दाम कम करने के फैंसले पर विफरी डीवाईएफआई, बजट सत्र में विधानसभा घेराव की दी चेतावनी       25 फरवरी से आरम्भ होगा विधान सभा का बजट सत्र, पत्रकार दीर्घा समिति की बैठक में बोले उपाध्यक्ष हंसराज       25 फरवरी से शुरू होगा हिमाचल विधानसभा का बजट सत्र, सत्र के दौरान होंगी 22 बैठकें       आम आदमी पार्टी छोड़कर पछता रहे होंगे अब ये 3 नेता       आज का पंचांग: 19 फरवरी 2020; जानिए आज का शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय       आज का राशिफ़ल: 19 फरवरी 2020; जानिए कैसा रहेगा आपका दिन       ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र के खुंडिया में खोला जाएगा शिक्षा खण्डः मुख्यमंत्री       ISI के लिए जासूसी करने वाले नेवी के 11 जवान गिरफ्तार, पाकिस्तान को भेजते थे सेना की खुफिया जानकारी      

हिमाचल

महिला सुरक्षा पर पांच दिवसीय कार्यशाला आरंभ

February 10, 2020 05:13 PM
शिमला: महिला सुरक्षा विषय पर पांच दिवसीय कार्यशाला अभियोजन निदेशालय शिमला द्वारा आयोजित की गई है। इस कार्यशाला का शुभारंभ आज हिमाचल प्रदेश राज्य महिला आयोग की अध्यक्षा डाॅ. डेजी ठाकुर ने किया। पांच दिवसीय इस कार्यशाला में प्रदेश भर के जिला न्यायवादी, उप-जिला न्यायवादी और सहायक जिला न्यायवादियों को महिला प्रताड़ना व सुरक्षा से जुड़े मामलों जैसे शारीरिक शोषण, पीड़िता को मुआवजा, गवाहों की सुरक्षा, साईबर क्राईम, फाॅरेंसिक साईंस, महिला तस्करी सहित अन्य विभिन्न मामलों की जानकारी दी गई।
 
इस अवसर पर डाॅ. डेजी ठाकुर ने कहा कि महिलाओं से जुड़े विभिन्न मामलों की जांच विभिन्न जांच एजेंसियों को पूर्ण दक्षता से करनी चाहिए, ताकि उन्हें समय पर न्याय मिल सके। उन्होंने कहा कि समाज में महिला प्रताड़ना, घरेलू हिंसा जैसे मामले बढ़ रहे हैं, जिन पर अंकुश लगाने के लिए समाज में जागरूकता लाना जरूरी है क्योंकि जागरूकता से ही ऐसे मामलों को रोका जा सकता है।
 
महिला सुरक्षा व उनके अधिकारों के विषय पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि अधिकांश प्रताड़ित होने वाली महिलाओं को उनके अधिकारों की जानकारी नहीं होती, जिसके कारण उन्हें न्याय नहीं मिल पाता। ऐसी स्थिति में महिलाआंे का जागरूक होना और उन्हें अपने अधिकारों का ज्ञान होना जरूरी है, जिसमें जिला न्यायवादी, उप जिला न्यायवादी और सहायक जिला न्यायवादी मुख्य भूमिका निभा सकते हैं।
 
प्रताड़ना के विभिन्न मामलों का समाधान करने के लिए काउंसलिंग महत्वपूर्ण है और इसके माध्यम से ही विभिन्न मामलों को हल किया जा सकता है। यदि काउंसलिंग से कोई मामला हल नहीं होता हो तभी उसे न्यायालय भेजा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि महिला प्रताड़ना से जुड़े विभिन्न मामलों में काउंसलिंग करने के लिए महिला पुलिस थाने, पुलिस स्टेशन और जिला स्तर पर प्रोफेशनल काउंसलर नियुक्त करने के प्रयास किए जा रहे हैं, जिसकी अनुशंसा राष्ट्रीय महिला आयोग को भेजी गई है।
 
राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने कहा कि समाज में जागरूकता की जरूरत है और जागरूकता से ही समाज में बदलाव लाया जा सकता है, ताकि महिलाएं सुरक्षित हो सकें। उन्होंने कहा कि समाज में महिलाओं के प्रति सोच को बदलना जरूरी है।
 
इस अवसर पर अभियोजन विभाग के निदेशक एनएल सेन ने बताया कि कार्यशाला में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को 12 फरवरी को फाॅरेंसिक साईंस की विशेष जानकारी प्रदान की जाएगी।

Have something to say? Post your comment

हिमाचल में और

चीन में फैले कोरोना वायरस के बीच पांच चीनी पहुंचे शिमला, पांचों की की गई स्वास्थ्य जांच, CMO में कहा शहर वासियों को नहीं घबराने की जरूरत।

स्वास्थ्य देखभाल सुविधा के लिए वरदान बनी हिमकेयर योजना

कैबिनेट में शराब के दाम कम करने के फैंसले पर विफरी डीवाईएफआई, बजट सत्र में विधानसभा घेराव की दी चेतावनी

25 फरवरी से आरम्भ होगा विधान सभा का बजट सत्र, पत्रकार दीर्घा समिति की बैठक में बोले उपाध्यक्ष हंसराज

25 फरवरी से शुरू होगा हिमाचल विधानसभा का बजट सत्र, सत्र के दौरान होंगी 22 बैठकें

ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र के खुंडिया में खोला जाएगा शिक्षा खण्डः मुख्यमंत्री

डिस्पेंसरी और सड़क जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित इस गांव के लोग, कब सरकारें करेगी रहम? पहाड़ में पहाड़ जैसा जीवन जीने को है मजबूर , देखें वीडियो..

जयराम मंत्रिमण्डल की बैठक में लिए गए ये महत्वपूर्ण निर्णय

राज्यपाल ने शिमला स्मार्ट सिटी के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए

4 वर्षीया मासूम छात्रा को 20 वर्षीय स्कूल बस चालक ने बनाया अपनी हवस का शिकार, आरोपी चालक गिरफ्तार