हिंदी ENGLISH E-Paper Download App Contact us Saturday | February 22, 2020
शिमला में धूम धाम से मनाया जा रहा शिवरात्रि का पर्व, मन्दिरो में जूटी भक्तो की भीड़       विश्व धरोहर पर फिर दौड़ा स्टीम इंजन, इंग्लैंड के 29 सैलानियों ने किया सफर       आज का राशिफ़ल: 21 फरवरी 2020; महाशिवरात्रि पर राशि अनुसार करें शिव मंत्र का जाप, मिलेंगे शुभ फल       हिमाचल प्रदेश में "सस्ती होगी शराब" का विरोध करने से पहले जानिए क्या है नई आबकारी नीति ? इस आबकारी नीति से कैसे बढ़ेगा प्रदेश का राजस्व ? पढ़े, ये खबर..!       शिक्षा विभाग में बंपर भर्तियां, भरे जाएंगे 1807 पद..       राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को शिवरात्रि की बधाई दी       निर्णय लेते समय सोशल मीडिया पर निर्भर न रहें युवाः सुरेश भारद्वाज       महँगाई कम करने के बजाय सरकार नशे को कर रही प्रमोट: युवा कांग्रेस       चीन में फैले कोरोना वायरस के बीच पांच चीनी पहुंचे शिमला, पांचों की की गई स्वास्थ्य जांच, CMO में कहा शहर वासियों को नहीं घबराने की जरूरत।       स्वास्थ्य देखभाल सुविधा के लिए वरदान बनी हिमकेयर योजना      

व्यापार

RBI ने दिया दिवाली का तोहफा, रेपो रेट में की 25 आधार अंकों की और कटौती

October 04, 2019 01:45 PM

नई दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक ने अर्थव्‍यवस्‍था में तेजी लाने और दिवाली का तोहफा देने के लिए शुक्रवार को लगातार पांचवीं बार रेपो रेट में कटौती का ऐलान किया है। आरबीआई ने रेपो रेट में 25 आधार अंकों की कटौती करने की घोषणा की है। नई रेपो रेट घटकर अब 5.15 प्रतिशत हो गई है, जो कि पहले 5.40 प्रतिशत थी।

आरबीआई ने रिवर्स रेपो रेट भी घटाकर 4.90 प्रतिशत और मार्जिनल स्‍टैंडिंग फेसिलिटी एमएसएफ) रेट और बैंक रेट घटाकर 5.40 प्रतिशत कर दिया है।

जानिए क्या होता है रेपो रेट?

रेपो रेट वह दर है जिस पर बैंकों को आरबीआई से लिए गए कर्ज पर ब्याज देना पड़ता है। इसके उलट बैंक आरबीआई के पास अपना जो पैसा रखते हैं, उस पर उन्हें रिवर्स रेपो रेट के हिसाब से ब्याज मिलता है। रेपो रेट में कमी या वृद्धि बैंकों के लिए बहुत मायने रखती है। रेपो रेट बढ़ने पर वे कर्ज पर ब्याज की दर बढ़ा देते हैं, ठीक इसके उलट रेपो रेट घटने पर वे कर्ज पर ब्याज की दर घटा देते हैं। इससे कर्ज लेना सस्ता हो जाता है। रेपो रेट कम होने का आम लोगों से जुड़ा सीधा सा मतलब यह है कि बैंक से मिलने वाले लोन सस्ते हो जाएंगे। रेपो रेट कम होने से होम लोन, ऑटो लोन समेत सभी के लोन सस्ते हो जाते हैं।

जिस रेट पर बैंकों को उनकी ओर से आरबीआई में जमा धन पर ब्याज मिलता है, उसे रिवर्स रेपो रेट कहते हैं। रिवर्स रेपो रेट बाजारों में नकदी को नियंत्रित करने में काम आती है। बहुत ज्यादा नकदी होने पर आरबीआई रिवर्स रेपो रेट बढ़ा देती है।

Have something to say? Post your comment

व्यापार में और

SBI ग्राहकों को झटका, बदली एफडी पर ब्याज दरें

बजट 2020 पेश : जानें, कहां से आता है और कहां जाता है सरकारी रुपया?

समझिए- 5 लाख, 10 लाख और 15 लाख तक कमाने वालों को नए टैक्स

जब 1 रुपया 13 डॉलर के बराबर हुआ करता था जानिए कैसे कम हुई रूपए की कीमत

इतने दोनों तक बंद रहेगी मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की सर्विस, आ रही है नई व्यवस्था,जानिए !

भारत सरकार का विभाग लेकर आया ये शानदार स्कीम, मात्र 200 रुपए जमा करने पर मिलेंगे 21 लाख रुपए

बदल गए जियो के सभी प्लान, अब कराना होगा इतने का रिचार्ज, क्लिक करके देखें नई लिस्ट

इस बड़े बैंक ने आज से बदले कैश जमा करने-निकालने से जुड़े 9 नियम, लोगों की जेब पर होगा सीधा असर

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का नोटिस असली है या नहीं ऐसे करें चेक, DIN प्रणाली शुरू

महिन्द्रा ने निकाला मंदी को टक्कर देने का उपाय