हिंदी ENGLISH E-Paper Download App Contact us Saturday | February 22, 2020
शिमला में धूम धाम से मनाया जा रहा शिवरात्रि का पर्व, मन्दिरो में जूटी भक्तो की भीड़       विश्व धरोहर पर फिर दौड़ा स्टीम इंजन, इंग्लैंड के 29 सैलानियों ने किया सफर       आज का राशिफ़ल: 21 फरवरी 2020; महाशिवरात्रि पर राशि अनुसार करें शिव मंत्र का जाप, मिलेंगे शुभ फल       हिमाचल प्रदेश में "सस्ती होगी शराब" का विरोध करने से पहले जानिए क्या है नई आबकारी नीति ? इस आबकारी नीति से कैसे बढ़ेगा प्रदेश का राजस्व ? पढ़े, ये खबर..!       शिक्षा विभाग में बंपर भर्तियां, भरे जाएंगे 1807 पद..       राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को शिवरात्रि की बधाई दी       निर्णय लेते समय सोशल मीडिया पर निर्भर न रहें युवाः सुरेश भारद्वाज       महँगाई कम करने के बजाय सरकार नशे को कर रही प्रमोट: युवा कांग्रेस       चीन में फैले कोरोना वायरस के बीच पांच चीनी पहुंचे शिमला, पांचों की की गई स्वास्थ्य जांच, CMO में कहा शहर वासियों को नहीं घबराने की जरूरत।       स्वास्थ्य देखभाल सुविधा के लिए वरदान बनी हिमकेयर योजना      

धार्मिक स्थान

हिमाचल : अष्टमी पर शक्तपीठों में उमड़ा आस्था का सैलाब, माता के मंदिरों में भक्तों की लगी कतारें

October 07, 2019 06:53 AM

शिमला : हिमाचल प्रदेश के शक्तिपीठों में शारदीय नवरात्र के दौरान लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे हैं। रविवार को अष्टमी पर शक्तिपीठों में लाखों श्रद्धालुओं ने देवियों के दर्शन किए। मां ज्वाला का मंदिर 24 घंटे खुला रहा जबकि मां नयनादेवी के कपाट रात दो बजे ही खुल गए थे। नयनादेवी में रिकॉर्ड सबसे ज्यादा एक लाख श्रद्धालुओं ने हाजिरी भरी। चामुंडा, ज्वालाजी और बज्रेश्वरी तीनों मंदिरों में करीब 72 हजार श्रद्धालु पहुंचे। चिंतपूर्णी में करीब 8 हजार और नाहन के बाला सुंदरी मंदिर में 20 हजार श्रद्धालुओं ने माथा टेका। 

अष्टमी के दिन सबसे ज्यादा भीड़ ज्वालामुखी मंदिर में 40 हजार के करीब दर्ज की गई, जबकि दूसरे स्थान पर बज्रेश्वरी मंदिर में 15 से 20 हजार के करीब श्रद्धालु नतमस्तक हुए। वहीं, चामुंडा मंदिर में अष्टमी के दिन 12 हजार भक्तों ने माथा टेका।

अष्टमी की रात को मां चामुंडा का नशीत पूजन हुआ और पुराना सिंदूर निकालकर नया सिंदूर चरणों में अर्पित किया गया। वहीं, 12 बजे मां को 108 प्रकार की देसी घी के बने व्यंजनों का भोग अर्पित किया। चिंतपूर्णी में दुर्गाष्टमी पर करीब सात हजार श्रद्धालुओं ने शीश नवाकर अपने जीवन में सुख-समृद्धि की कामना की। पिछले वर्ष की तुलना में श्रद्धालुओं की संख्या कम रही।

 

Have something to say? Post your comment