हिंदी ENGLISH E-Paper Download App Contact us Saturday | February 22, 2020
शिमला में धूम धाम से मनाया जा रहा शिवरात्रि का पर्व, मन्दिरो में जूटी भक्तो की भीड़       विश्व धरोहर पर फिर दौड़ा स्टीम इंजन, इंग्लैंड के 29 सैलानियों ने किया सफर       आज का राशिफ़ल: 21 फरवरी 2020; महाशिवरात्रि पर राशि अनुसार करें शिव मंत्र का जाप, मिलेंगे शुभ फल       हिमाचल प्रदेश में "सस्ती होगी शराब" का विरोध करने से पहले जानिए क्या है नई आबकारी नीति ? इस आबकारी नीति से कैसे बढ़ेगा प्रदेश का राजस्व ? पढ़े, ये खबर..!       शिक्षा विभाग में बंपर भर्तियां, भरे जाएंगे 1807 पद..       राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को शिवरात्रि की बधाई दी       निर्णय लेते समय सोशल मीडिया पर निर्भर न रहें युवाः सुरेश भारद्वाज       महँगाई कम करने के बजाय सरकार नशे को कर रही प्रमोट: युवा कांग्रेस       चीन में फैले कोरोना वायरस के बीच पांच चीनी पहुंचे शिमला, पांचों की की गई स्वास्थ्य जांच, CMO में कहा शहर वासियों को नहीं घबराने की जरूरत।       स्वास्थ्य देखभाल सुविधा के लिए वरदान बनी हिमकेयर योजना      

देश/विदेश

धनतेरस-2019: इस धनतेरस 50% घट सकती है सोने की खरीदारी, जानिए वजह..

October 09, 2019 12:17 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर

धनतेरस-2019: इस धनतेरस 50% घट सकती है सोने की खरीदारी, जानिए वजह

वैसे तो त्‍योहारी सीजन में सोने-चांदी की खूब खरीदारी होती है लेकिन इस बार ऐसी उम्‍मीद नहीं है. इंडिया बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन (आईबीजेए) के नेशनल सेक्रेटरी सुरेंद्र मेहता के मुताबिक इस साल धनतेरस पर मांग कमजोर होने के कारण सोने की 50 फीसदी तक खरीदारी घट सकती है. बता दें कि इस मौके पर हर साल देशभर में करीब 40 टन सोने की खरीदारी होती है।

न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस से मेहता ने बताया कि ऊंचे भाव पर मांग घटने और आयात शुल्क में वृद्धि होने के कारण बीते महीने सितंबर में सोने का आयात घटकर 26 टन रह गया, जबकि पिछले साल इसी महीने में भारत ने 81.71 टन सोने का आयात किया था. इस तरह पिछले साल के मुकाबले इस साल सितंबर में सोने का आयात 68.18 फीसदी घट गया. सोने का आयात घटने की वजह पूछने पर मेहता ने बताया कि सरकार ने आयात शुल्क में वृद्धि कर दी, जिससे सोने का आयात महंगा हो गया।

 

बता दें कि इस साल जुलाई में आम बजट में महंगी धातुओं पर आयात शुल्क 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी कर दिया गया है.

मेहता ने आगे कहा, "सोने में तीन तरह की मांग रहती है, पहली, शादी के सीजन की मांग. दूसरी, त्योहारी मांग और तीसरी नियमित मांग. बाजार में लिक्‍विडिटी के अभाव में नियमित मांग की हालत पहले से ही खराब है, वहीं भाव ऊंचा होने से लोग निवेश से भी घबराते हैं. इसके अलावा त्योहारी मांग भी कमजोर रहने वाली है." हालांकि केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया को उम्‍मीद है कि त्‍योहारी डिमांड में सुधार जरूर होगा. लेकिन पिछले वर्षो की तरह इस साल सोने-चांदी की त्योहारी मांग नहीं रहेगी, क्योंकि भाव अभी भी काफी ऊंचा है।

बता दें कि मुंबई में बीते शुक्रवार को 22 कैरट सोने का भाव 39, 190 रुपये और 24 कैरट का 39, 340 रुपये प्रति 10 ग्राम था. बीते दिनों सोने का भाव भारतीय सर्राफा बाजार में 40, 000 रुपये प्रति 10 ग्राम से ऊपर चला गया था. वहीं, अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोमवार को सोने का भाव 1, 500 डॉलर प्रति औंस से ऊपर चल रहा है, जबकि पिछले साल पांच अक्टूबर को सोने का भाव 1, 242.20 डॉलर प्रति औंस था. इस प्रकार अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में पिछले साल के मुकाबले सोने का भाव इस समय 250 डॉलर प्रति औंस से भी ज्यादा है।

 

Have something to say? Post your comment

देश/विदेश में और

आम आदमी पार्टी छोड़कर पछता रहे होंगे अब ये 3 नेता

ISI के लिए जासूसी करने वाले नेवी के 11 जवान गिरफ्तार, पाकिस्तान को भेजते थे सेना की खुफिया जानकारी

शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों का पक्ष जानने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने नियुक्त किया वार्ताकार  

निर्भया गैंगरेप केसः दिल्ली की अदालत ने दोषियों का नया डेथ वारंट किया जारी, 3 मार्च सुबह 6 बजे दी जाएगी फांसी..

कन्हैया कुमार पर हो रहे लगातार हमलों पर नीतीश सरकार सख्त, अधिकारियों से मांगा जवाब

एससी, एसटी, ओबीसी आरक्षण, सुप्रीम कोर्ट ने कहा सरकारें आरक्षण देने के लिए बाध्य नहीं - सुप्रीम कोर्ट

दिल्ली चुनाव परिणामः बुधवार को चुना जाएगा विधायक दल का नेता, केजरीवाल के घर होगी बैठक

प्रचण्ड बहुमत के बाद परिवार संग हनुमान मंदिर में दर्शन करने पहुंचे अरविंद केजरीवाल

केजरीवाल का फ्री वाला फॉर्मूला चल निकला, ममता और उद्धव भी राह पर

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रचार पर खर्च किए करोड़ो रुपये,विकास कार्य पड़े है ठप, अब जनता देगी जवाब - CM जयराम ठाकुर