शिमला के शोघी में हादसा, 6 लोग घायल       अंतरराष्ट्रीय प्राकृतिक आपदा न्यूनीकरण दिवस पर कार्यकर्म आयोजित कर लोगो को किया गया जागरूक         12वीं की छात्रा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, समस्त परिवारजन सदमे में       आज है शरद पूर्णिमा; क्या है शरद पूर्णिमा का महत्व ? जानिए !       मंडी से चंडीगढ़ जा रही एचआरटीसी बस में सवार युवक से चरस बरामद       रविवार का पंचांग: 13 अक्टूबर 2019; जानिए आज का शुभ मुहूर्त       आज का राशिफ़ल: 13 अक्टूबर 2019; जानिए कैसा रहेगा आपका दिन       ओच्छघाट सोलन के गड़ोग गांव में की जा रही थी भांग की खेती, एक किसान गिरफ्तार       लाखों की नकदी व जेवर चोरी मामले में आरोपी गिरफ्तार       इंजीनियरिंग के एक छात्र की चिट्टे की ओवरडोज से मौत      

हिमाचल | शिमला

शिमला में प्याज के बाद अब टमाटर हुआ 'लाल', एक किलो के देने पड़ रहे इतने रुपये

October 09, 2019 10:07 PM

शिमला: प्‍याज के बाद टमाटर की कीमतों में आग लगी है। नवरात्रि में 30 से 40 रुपए किलो मिलने वाले टमाटर की कीमतें दोगुनी हो गई हैं। हालांकि सरकार ने प्याज की महंगाई पर एक्‍सपोर्ट बंद कर तो लगाम लगा दिया, लेकिन अब टमाटर के दाम बेकाबू हैं।

बीते 10 दिन में प्रदेश की राजधानी शिमला में टमाटर का दाम डेढ़ गुना बढ़ गया है जबकि एक पखवारे में टमाटर का भाव दोगुने से भी ज्यादा हो गया है। लोगों को एक किलो टमाटर के लिए 80 रुपये से ज्यादा भाव चुकाना पड़ रहा है, जबकि एक पखवारे पहले शिमला में टमाटर 30-40 रुपये किलो मिल रहा था।

निर्यात पर रोक

प्याज के दाम को काबू करने के लिए सरकार ने जब से इसके निर्यात पर रोक लगाई है और थोक-खुदरा कारोबारियों के लिए स्टॉक की सीमा तय की है, तब से प्याज का भाव गिरा है।

बारिश से टमाटर को नुकसान

कारोबारियों ने बताया कि मानसून सीजन के आखिर में देशभर में हुई भारी बारिश के कारण टमाटर की फसल को भारी नुकसान पहुंचा है।

गौरतलब है कि शिमला में पैट्रोल और प्याज के दामों पछाड़ कर टमाटर आम जनता की पहुंच से बाहर होता जा रहा है। टमाटर के दाम में बीते 4 दिन में दोगुना इजाफा हुआ है। बीते सप्ताह 30 से 40 रूपये प्रतिकिलो बिकने वाला टमाटर 80 रुपये प्रतिकिलो मिल रहा है। प्रदेश में अधिकतर सब्जियां महंगी होने से आम जनमानस को महंगाई सताने लगी है।

सरकार महंगाई रोकने में नाकाम, जनता परेशान

शिमला के सब्जी मंडी सब्जी खरदीने आए उपभोक्ताओं ने कहा कि अब महंगाई का आलम यह है कि किलो की बजाये अब ग्राम में सब्जियां खरीदनी पड़ रही है। उपभोक्ताओं का कहना कि एक तरफ त्योहार का सीजन दूसरी तरफ महंगी सब्जियां कैसे घर परिवार को चलाएं। गृहणियां का आरोप है कि सरकार महंगाई को लेकर गंभीर नहीं है।

महंगाई पर रोक लगाने के लिए सरकार कोई कदम नहीं उठा रहा है। लोगों को महंगी सब्जियां खरदीने के लिए मजबूर किया जा रहा है। उपभोक्ताओं का आरोप है कि खाद्य सामग्री की जमाखोरी करने से दाम बढ़े हैं। बड़े व्यापारी जानबूझ कर जमाखोरी कर रहे है और केंद्र और प्रदेश सरकार मूक दर्शक बनी हुई है।

Have something to say? Post your comment

हिमाचल में और

शिमला के शोघी में हादसा, 6 लोग घायल

अंतरराष्ट्रीय प्राकृतिक आपदा न्यूनीकरण दिवस पर कार्यकर्म आयोजित कर लोगो को किया गया जागरूक  

12वीं की छात्रा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, समस्त परिवारजन सदमे में

मंडी से चंडीगढ़ जा रही एचआरटीसी बस में सवार युवक से चरस बरामद

ओच्छघाट सोलन के गड़ोग गांव में की जा रही थी भांग की खेती, एक किसान गिरफ्तार

लाखों की नकदी व जेवर चोरी मामले में आरोपी गिरफ्तार

इंजीनियरिंग के एक छात्र की चिट्टे की ओवरडोज से मौत

मुख्यमंत्री ने इन 3 विभागों को लगाई फटकार, टारगेट पूरा करने में नाकाम रहे ये विभाग

चरस तस्करों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई : अटैच की चरस तस्करों की संपत्ति

राज्य सहकारी बैंक में हुई भर्तियों की जांच पूरी करने में विजिलेंस के हाथ खड़े