हिंदी ENGLISH E-Paper Download App Contact us Saturday | February 22, 2020
शिमला में धूम धाम से मनाया जा रहा शिवरात्रि का पर्व, मन्दिरो में जूटी भक्तो की भीड़       विश्व धरोहर पर फिर दौड़ा स्टीम इंजन, इंग्लैंड के 29 सैलानियों ने किया सफर       आज का राशिफ़ल: 21 फरवरी 2020; महाशिवरात्रि पर राशि अनुसार करें शिव मंत्र का जाप, मिलेंगे शुभ फल       हिमाचल प्रदेश में "सस्ती होगी शराब" का विरोध करने से पहले जानिए क्या है नई आबकारी नीति ? इस आबकारी नीति से कैसे बढ़ेगा प्रदेश का राजस्व ? पढ़े, ये खबर..!       शिक्षा विभाग में बंपर भर्तियां, भरे जाएंगे 1807 पद..       राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को शिवरात्रि की बधाई दी       निर्णय लेते समय सोशल मीडिया पर निर्भर न रहें युवाः सुरेश भारद्वाज       महँगाई कम करने के बजाय सरकार नशे को कर रही प्रमोट: युवा कांग्रेस       चीन में फैले कोरोना वायरस के बीच पांच चीनी पहुंचे शिमला, पांचों की की गई स्वास्थ्य जांच, CMO में कहा शहर वासियों को नहीं घबराने की जरूरत।       स्वास्थ्य देखभाल सुविधा के लिए वरदान बनी हिमकेयर योजना      

व्यापार

इस बड़े बैंक ने आज से बदले कैश जमा करने-निकालने से जुड़े 9 नियम, लोगों की जेब पर होगा सीधा असर

October 02, 2019 05:22 PM

अगर आपका भी देश के सबसे बड़े पब्लिक सेक्टर बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI ) में अकाउंट है, तो ये खबर आपके लिए बड़े काम की है। 1 अक्टूबर यानी आज से एसबीआई के लोन, चेकबुक, एटीएम, न्यूनतम बैलेंस चार्ज, पेट्रोल-डीजल की खरीद पर कैशबैक, आरटीजीएस और एनईएफटी से जुड़े नियम बदल गए हैं। इन बदले हुए नियमो का सीधा असर आपकी जेब पर पड़ेगा। 

1 SBI बैंक से कैश निकालना

एसबीआई खाताधारक जिनका मासिक बैलेंस औसतन 25000 रहता है, वह बैंक ब्रांच से 2 बार मुफ्त में कैश निकाल सकते हैं। 

- 25000 से 50000 औसत बैलेंस वाले खाताधारक 10 बार मुफ्त कैश निकाल सकते हैं। 

- 50000 से 1, 00, 000 रुपये तक के औसत बैलेंस वाले खाताधारकों बैंक ब्रांच से 15 बार मुफ्त कैश निकाल सकते हैं। 

- 1, 00, 000 रुपये से अधिक औसत बैलेंस वाले खाताधारक बैंक ब्रांच से कैश निकालने के लिए कोई पाबंदी नहीं है। बैंक ब्रांच से वह कितनी बार भी कैश निकाल सकते हैं।  15 बार मुफ्त कैश निकाल सकते हैं। फ्री लिमिट के बाद कैश निकालने पर 50 रुपये और जीएसटी देना होगा।

 

2 कैश डिपोजिट ट्रांजेक्शन 

एसबीआई अब 3 मुफ्त कैश डिपोजिट ट्रांजेक्शन महीने में देगा। इसके बाद बैंक आपसे 50 रुपये और जीएसटी चार्ज करेगा। 

 

3 एसबीआई एटीएम से 12 बार मुफ्त निकासी

एसबीआई के एटीएम से मुफ्त निकासी की सीमा बढ़ जाएगी। मेट्रो शहर के ग्राहक जहां एसबीआई एटीएम से दस बार मुफ्त ट्रांजैक्शन कर सकते हैं, वहीं अन्य शहरों में यह सीमा 12 हो गई है। यही नहीं, एसबीआई खाते में निर्धारित मासिक औसत बैलेंस (एमएबी) नहीं बनाए रखने पर जुर्माने की रकम में भी 80 फीसदी तक की कटौती हुई है।

 

4 पेट्रोल-डीजल की खरीद पर कैशबैक नहीं

एसबीआई के क्रेडिट कार्ड से पेट्रोल-डीजल खरीदने पर 0.75 फीसदी का कैशबैक नहीं मिलेगा। सेस घटने से 10 से 13 सीटों वाले पेट्रोल-डीजल वाहन सस्ते होंगे।

 

5 घटे चेक बुक के पन्ने 

एसबीआई ने चेक के द्वारा किए जाने वाली पेमेंट थोड़ी महंगी हो गई है। अब बचत खाते पर एक वित्त वर्ष में 25 की जगह केवल 10 चेक ही मुफ्त देगा। इसके बाद 10 चेक लेने पर 40 रुपये देने होंगे। जबकि पहले मुफ्त चेक बुक के बाद 10 चेक लेने पर 30 रुपये देने पड़ते थे। इस पर जीएसटी (GST) अलग से चुकाना होगा।

 

6 चेक बाउंस होने पर लगेंगे 168 रुपये

एसबीआई बैंक ने चेक बाउंस होने वाले मामलों में सख्ती बरतनी के मकसद से चार्जेस बढ़ा दिये हैं। 1 अक्टूबर से कोई भी चेक तकनीकी या किसी भी कारम से बाउंस होने पर जीएसटी मिलाकर 168 रुपये चुकाने होंगे। 

 

7 घटाया न्यूनतम बैलेंस और बदले चार्जेस 

एसबीआई 1 अक्तूबर से मेट्रो शहरों के ग्राहकों के लिए मासिक न्यूनतम बैलेंस घटाकर 3, 000 रुपये कर देगा, जो अभी 5, 000 रुपये था।

 - अगर अब आपका न्यूनतम बैलेंस 50 फीसदी तक कम होता है तो 10+जीएसटी का चार्ज लगेगा। अगर न्यूनतम बैलेंस 50 से 75 फीसदी कम होता है तो 12+जीएसटी लगेगा। अगस न्यूनतम बैलेंस 75 फीसदी से अधिक कम होता है तो 15+जीएसटी लगेगा।

 गांवों और छोटे कस्बो में न्यूनतम बैलेंस 1, 000 रुपये मेंटेंन करना होगा। अगर अब आपका न्यूनतम बैलेंस 50 फीसदी तक कम होता है तो 5+जीएसटी का चार्ज लगेगा। अगर न्यूनतम बैलेंस 50 से 75 फीसदी कम होता है तो 7.5+जीएसटी लगेगा। 

 

8 NEFT और RTGS के चार्ज भी बदले

नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT ) और रियल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS ) का शुल्क भी बदल गया है। 10, 000 रुपये तक का एनईएफटी लेनदेन पर दो रुपये के साथ जीएसटी लगेगा। वहीं दो लाख से अधिक की राशि एनईएफटी करने पर 20 रुपये के साथ ग्राहकों को जीएसटी देना होगा। आरटीजीएस से दो लाख से पांच लाख तक भेजने पर 20 रुपये के साथ जीएसटी लगेगा। पांच लाख रुपये से ज्यादा के लेनदेन पर 40 रुपये प्लस जीएसटी चार्ज लगेगा। बता दें कि यह डिजिटल पेमेंट माध्यम से मुफ्त है लेकिन ब्रांच पर इसकी फीस लगाई जाती है।

 

9 लोन

भारतीय स्टेट बैंक ने अपने लघु एवं मध्यम उद्योग ऋण, होम लोन, कार लोन और अन्य खुदरा ऋणों पर कल से 1 अक्टूबर से ब्याज दर रेपो दर के आधार पर वसूलेगा। बैंक ने सोमवार को घोषणा की कि वह अपने सभी तरह के परिवर्तनीय ब्याज दर वाले ऋणों के लिए बाहरी मानक रेपो दर को मानेगा। यानी अगले 5 दिन में एसबीआई बैंक के लोन से जुड़े नियम बदल जाएंगे।

बदल जाएगा इन लोन पर ब्याज का तरीका - होम लोन -कार लोन - पर्सनल लोन - लघु एवं मध्यम उद्योग ऋण - ट्रैवल लोन

Have something to say? Post your comment

व्यापार में और

SBI ग्राहकों को झटका, बदली एफडी पर ब्याज दरें

बजट 2020 पेश : जानें, कहां से आता है और कहां जाता है सरकारी रुपया?

समझिए- 5 लाख, 10 लाख और 15 लाख तक कमाने वालों को नए टैक्स

जब 1 रुपया 13 डॉलर के बराबर हुआ करता था जानिए कैसे कम हुई रूपए की कीमत

इतने दोनों तक बंद रहेगी मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की सर्विस, आ रही है नई व्यवस्था,जानिए !

भारत सरकार का विभाग लेकर आया ये शानदार स्कीम, मात्र 200 रुपए जमा करने पर मिलेंगे 21 लाख रुपए

बदल गए जियो के सभी प्लान, अब कराना होगा इतने का रिचार्ज, क्लिक करके देखें नई लिस्ट

RBI ने दिया दिवाली का तोहफा, रेपो रेट में की 25 आधार अंकों की और कटौती

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का नोटिस असली है या नहीं ऐसे करें चेक, DIN प्रणाली शुरू

महिन्द्रा ने निकाला मंदी को टक्कर देने का उपाय